पार उतर जाएँ हम तो क्या!

दिल की ख़लिश तो साथ रहेगी तमाम उम्र,
दरिया-ए-ग़म के पार उतर जाएँ हम तो क्या|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply