लौट के घर जाएँ हम तो क्या!

अब कौन मुंतज़िर है हमारे लिए वहाँ,
शाम आ गई है लौट के घर जाएँ हम तो क्या|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply