उगा रक्खे हैं सूरज इतने!

उसकी यादों ने उगा रक्खे हैं सूरज इतने,
शाम का वक़्त भी आए तो सहर लगता है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply