क़िस्मत में सफ़र लगता है!

एक मंज़र पे ठहरने नहीं देती फ़ितरत,
उम्र भर आँख की क़िस्मत में सफ़र लगता है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply