जिसे शाम से डर लगता है!

तेरी क़ुर्बत के ये लम्हे उसे रास आएँ क्या,
सुब्ह होने का जिसे शाम से डर लगता है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply