नहाया सा शजर लगता है!

मैं नज़र भर के तिरे जिस्म को जब देखता हूँ,
पहली बारिश में नहाया सा शजर लगता है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply