एक ही मंज़र तो रह नहीं सकता!

किसी के चेहरे को कब तक निगाह में रक्खूँ,
सफ़र में एक ही मंज़र तो रह नहीं सकता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply