क्या बात कह नहीं सकता!

ये आज़माने की फ़ुर्सत तुझे कभी मिल जाए,
मैं आँखों आँखों में क्या बात कह नहीं सकता|

वसीम बरेलवी

2 Comments

Leave a Reply