अदब आदाब मत देखा करो!

मय-कदे में क्या तकल्लुफ़ मय-कशी में क्या हिजाब,
बज़्म-ए-साक़ी में अदब आदाब मत देखा करो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply