ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता!

पागल हुए जाते हो ‘फ़राज़’ उससे मिले क्या,
इतनी सी ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply