फ़ैसला कर भी नहीं जाता!

क़ुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता,
वो शख़्स कोई फ़ैसला कर भी नहीं जाता|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply