बीज न बोया करेंगे हम!

दिल जल रहा है ज़र्द शजर देख देख कर,
अब चाहतों के बीज न बोया करेंगे हम|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply