भिगोने के बहाने निकल आए!

ऐ रेत के ज़र्रे तिरा एहसान बहुत है,
आँखों को भिगोने के बहाने निकल आए|

मुनव्वर राना

Leave a Reply