हम घर से कमाने निकल आए!

मुमकिन है हमें गाँव भी पहचान न पाए,
बचपन में ही हम घर से कमाने निकल आए|

मुनव्वर राना

Leave a Reply