शीशे के मकाँ कैसे हैं!

पत्थरों वाले वो इंसान वो बेहिस दर-ओ-बाम,
वो मकीं कैसे हैं शीशे के मकाँ कैसे हैं|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply