जब बे-ख़ुदी से मिलता है!

कारोबार-ए-जहाँ सँवरते हैं,
होश जब बे-ख़ुदी से मिलता है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply