बस किसी किसी का रहा!

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीं पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी किसी का रहा|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply