मिरे घर में न रौशनी का रहा!

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उसका,
सहारा अब मिरे घर में न रौशनी का रहा|

कैफ़ी आज़मी

1 Comment

Leave a Reply