सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा!

जो वो मिरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उनसे सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा|

कैफ़ी आज़मी

1 Comment

Leave a Reply