क्या क्या गुल ओ समर फिर भी!

लुटा हुआ चमन-ए-इश्क़ है निगाहों को,
दिखा गया वही क्या क्या गुल ओ समर फिर भी|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply