नज़र नज़र फिर भी!

कहूँ ये कैसे इधर देख या न देख उधर,
कि दर्द दर्द है फिर भी, नज़र नज़र फिर भी|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply