नज़र है तिरी नज़र फिर भी!

ख़राब हो के भी सोचा किए तिरे महजूर,
यही कि तेरी नज़र है तिरी नज़र फिर भी|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply