तेरा ठिकाना बहुत हुआ!

क्या क्या न हम ख़राब हुए हैं मगर ये दिल,
ऐ याद-ए-यार तेरा ठिकाना बहुत हुआ|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply