मुझसे कुछ इरशाद किया!

इतना मानूस हूँ फ़ितरत से कली जब चटकी,
झुक के मैंने ये कहा मुझसे कुछ इरशाद किया|

जोश मलीहाबादी

Leave a Reply