किसे दुनिया ने पहनाया न था!

वो पयम्बर हो कि आशिक़ क़त्ल-गाह-ए-शौक़ में,
ताज काँटों का किसे दुनिया ने पहनाया न था|

क़तील शिफ़ाई

1 Comment

Leave a Reply