झोंकों के पीछे चल रही थीं आँधियाँ!

अब खुला झोंकों के पीछे चल रही थीं आँधियाँ,
अब जो मंज़र है वो पहले तो नज़र आया न था|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply