तुझे क्या हमने समझाया न था!

क्या मिला आख़िर तुझे सायों के पीछे भाग कर,
ऐ दिल-ए-नादाँ तुझे क्या हमने समझाया न था|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply