जाम छलकता दिखाई दे!

वो लब कि जैसे साग़र-ए-सहबा दिखाई दे,
जुम्बिश जो हो तो जाम छलकता दिखाई दे|

कृष्ण बिहारी नूर

Leave a Reply