भीड़ में भी जाए तो तन्हा दिखाई दे!

क्या हुस्न है जमाल है क्या रंग-रूप है,
वो भीड़ में भी जाए तो तन्हा दिखाई दे|

कृष्ण बिहारी नूर

1 Comment

Leave a Reply