आ गया काँटों में रहना आ गया!

एक ना-शुकरे चमन को रंग-ओ-बू देता रहा,
आ गया हाँ आ गया काँटों में रहना आ गया|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply