मुझको रंज सहना आ गया!

आरज़ू को दिल ही दिल में घुट के रहना आ गया,
और वो ये समझे कि मुझको रंज सहना आ गया|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply