रुख़ पर हम को बहना आ गया!

ज़िंदगी से क्या लड़ें जब कोई भी अपना नहीं,
हो के शल धारे के रुख़ पर हम को बहना आ गया|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply