आज तुम याद बे-हिसाब आए!

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply