दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए!

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply