दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए!

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply