फिर वो बे-नक़ाब आए!

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply