मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए!

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply