इस शहर में क्या हो नहीं सकता!

बस तू मिरी आवाज़ से आवाज़ मिला दे,
फिर देख कि इस शहर में क्या हो नहीं सकता|

मुनव्वर राना

1 Comment

Leave a Reply