क़लंदर हो गदा हो नहीं सकता!

दरबार में जाना मिरा दुश्वार बहुत है,
जो शख़्स क़लंदर हो गदा हो नहीं सकता|

मुनव्वर राना

Leave a Reply