जहाँ पहुँचे कामयाब आए!

‘फ़ैज़’ थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply