बाद-ए-सबा हो नहीं सकता!

इस ख़ाक-ए-बदन को कभी पहुँचा दे वहाँ भी,
क्या इतना करम बाद-ए-सबा हो नहीं सकता|

मुनव्वर राना

2 Comments

Leave a Reply