अब के बरस भी यहीं से निकलेगा!

गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मो हरे-भरे रहना,
जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply