ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ!

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply