आप ही अपनी सदाएँ हम!

सहरा-ए-ज़िंदगी में कोई दूसरा न था,
सुनते रहे हैं आप ही अपनी सदाएँ हम|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply