तुझको अगर भूल जाएँ हम!

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएँ हम,
ये भी बहुत है तुझको अगर भूल जाएँ हम|

अहमद फ़राज़

1 Comment

Leave a Reply