तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे!

हमको अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तिरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply