न याद आ कि तुझे भूल जाएँ हम!

इस ज़िंदगी में इतनी फ़राग़त किसे नसीब,
इतना न याद आ कि तुझे भूल जाएँ हम|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply