वो किसे प्यासा रक्खे!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किसको सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply