जज़्बात के ज़ख़्म खा रहा हूँ!

है शहर में क़हत पत्थरों का,
जज़्बात के ज़ख़्म खा रहा हूँ|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply