प्यासा ही पलट के जा रहा हूँ!

दरिया-ए-फ़ुरात है ये दुनिया,
प्यासा ही पलट के जा रहा हूँ|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply